/

Home -

बेनेली टीआरके 800: की यह शानदार स्पोर्ट्स मोटरसाइकिल अपने लुक और लग्जरी फंक्शन से बच्चों का दिल जीत लेगी, हर कोई इसके फंक्शन का दीवाना हो जाएगा

बेनेली टीआरके 800: की यह शानदार स्पोर्ट्स मोटरसाइकिल अपने लुक और लग्जरी फंक्शन से बच्चों का दिल जीत लेगी, हर कोई इसके फंक्शन का दीवाना हो जाएगा

बेनेली टीआरके 800: अगर आप भी साल 2024 में एक बेहतरीन स्पोर्ट्स मोटरसाइकिल खरीदने का प्लान बना रहे हैं जो आपके दोस्तों से बिल्कुल अलग हो और हर कोई आपकी बाइक को देखने के बाद तारीफ करे, लेकिन समझ नहीं पा रहे हैं कि कौन सी मोटरसाइकिल खरीदें, तो अब आपको टेंशन लेने की जरूरत नहीं है, बस थोड़ा इंतजार करना चाहिए, क्योंकि बेनेली एजेंसी जल्द ही भारत में अपनी सबसे शानदार बाइकों में से एक बेनेली टीआरके 800 मोटरसाइकिल लॉन्च करने जा रही है, जो बेहतरीन फीचर्स और नई तकनीक के साथ लॉन्च होने जा रही है।

बेनेली की यह अपकमिंग स्पोर्ट्स मोटरसाइकिल जल्द ही भारतीय बाजार में दस्तक देने जा रही है, जो हर टीनएजर्स के दिलों पर राज करने जा रही है। भारत में इस बेनेली टीआरके 800 बाइक के लॉन्च के बारे में सुनकर हर वाहन मालिक के पसीने छूटने लगे हैं, क्योंकि इस बाइक का लुक और दमदार फीचर्स हर युवा को अपनी ओर आकर्षित करने जा रहे हैं। आइए जानते हैं इस मोटरसाइकिल के कुछ खास फंक्शन और कीमत के बारे में।

बेनेली TRK 800 इंजन

बेनेली TRK 800 मोटरसाइकिल के इंजन की बात करें तो इसमें आपको 754 cc DOHC इंजन, 2 इन-लाइन सिलेंडर, 4 स्ट्रोक, लिक्विड कूलिंग, 4 वॉल्व इन-द-सिलेंडर इंजन मिलेगा जो अधिकतम 76.13 hp की पावर और 67 nm का टॉर्क जेनरेट करता है। कंपनी ने इस मोटरसाइकिल के इंजन को 6-स्पीड गियरबॉक्स से जोड़ा है। इस बाइक की माइलेज की बात करें तो यह आपको 25 kmpl तक की माइलेज देगी।

बेनेली TRK 800 फंक्शन

बेनेली TRK 800 मोटरसाइकिल की खूबियों की बात करें तो इसमें आपको कई बेहतरीन फंक्शन मिलने की उम्मीद है, जिसमें आपको वर्चुअल टूल कंसोल, वर्चुअल स्पीडोमीटर, डिजिटल ओडोमीटर, डिजिटल एक्सपीरियंस मीटर, डिजिटल क्लॉक, डिजिटल टैकोमीटर, पैसेंजर फुटरेस्ट, पास ट्रांसफर, LED हेडलैंप, LED टेल लैंप और डबल चैनल जैसे फीचर्स मिलेंगे।

रेट

अगर आप भी ऐसी शानदार स्पोर्ट्स मोटरसाइकिल खरीदने की योजना बना रहे हैं जिसे देखते ही हर कोई इसकी तारीफ़ करने लगे, तो बेनेली TRK 800 बाइक आपके लिए सबसे बढ़िया रहेगी। कंपनी जल्द ही इस मोटरसाइकिल को भारत में लॉन्च करने जा रही है, जिसकी कीमत आपको बाज़ार में 8.50 लाख रुपये एक्स-शोरूम हो सकती है।

हाथरस हादसा: प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही ने ली 121 लोगों की जान, भगदड़ के ये दो सबसे बड़े कारण हैं।

हाथरस हादसा: प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही ने ली 121 लोगों की जान, भगदड़ के ये दो सबसे बड़े कारण हैं।

 

हाथरस हादसा: अधिकांश गवाहों ने कहा कि भगदड़ में 121 मौतों का कारण बाबा के चरणों की धूल पाने का विरोध और सेवादारों व सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही थी।

सत्संग हादसे की जांच के लिए सेवानिवृत्त हाईकोर्ट जज बृजेश कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में गठित न्यायिक जांच आयोग के समक्ष रविवार को चार घंटे में 34 प्रत्यक्षदर्शियों ने अपने बयान दर्ज कराए। अधिकांश गवाहों ने कहा कि भगदड़ में 121 मौतों का कारण बाबा के चरणों की धूल पाने की होड़ और सेवादारों व सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही थी।

सिकंदराराऊ के ब्रजबिहारी कौशिक ने कहा कि भगदड़ की घटना के दौरान वह मौके पर ही मौजूद थे। सत्संग समाप्त होने के बाद जब बाबा मंच से जाने लगे तो भीड़ उनके पीछे-पीछे चलने लगी। इस दौरान भगदड़ मच गई। जब हमने भीड़ को ऐसा करने से रोकने और लोगों को भगदड़ से बचाने का प्रयास किया तो वहां तैनात बाबा के सुरक्षाकर्मियों ने हमें आगे नहीं बढ़ने दिया और रोक दिया।

कौशल प्रताप सिंह और ओमवीर सिंह राणा ने बताया कि बाबा के पैर छूने और पौधे लूटने के विरोध के चलते भीड़ बेकाबू हो गई और वहां भगदड़ की स्थिति पैदा हो गई। यही घटना का कारण बनी। वहीं, दूसरे आरोपी राम प्रकाश शाक्य को रविवार को पुलिस ने कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट में पेश किया। रिमांड मजिस्ट्रेट ने उसे चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

इससे पहले घटना के मुख्य आरोपी देव प्रकाश मधुकर और दूसरे आरोपी संजू यादव को शनिवार को चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। अंधभक्ति का एक और ऑडियो…कयामत पहले ही तय थी…बाबा ने कहा था सोशल मीडिया पर एक और ऑडियो वायरल हो रहा है जिसमें बाबा के दो भक्त मोबाइल पर एक दूसरे से बात कर रहे हैं। यह उनके मौखिक आदान-प्रदान की रिकॉर्डिंग है जिसमें एक भक्त यह घोषणा कर रहा है कि यह प्रलय का दिन पहले से ही निर्धारित था।

बाबा ने पहले ही कह दिया था। यह भी कोई बड़ी बात नहीं है। वे सभी निराकार तक पहुँच चुके हैं। किसी भी दिन बाबा उन्हें फिर से मुक्ति दिला सकते हैं। यह अंधभक्ति को दर्शाता है।

राहुल गांधी की खबर: किसी ने मां को खोने का दर्द बयां किया तो कोई फूट-फूट कर रोया, हाथरस भगदड़ के पीड़ित राहुल से मिलकर भावुक हो गए हैं

राहुल गांधी की खबर: किसी ने मां को खोने का दर्द बयां किया तो कोई फूट-फूट कर रोया, हाथरस भगदड़ के पीड़ित राहुल से मिलकर भावुक हो गए हैं

हाथरस भगदड़ खबर: हाथरस में मची भगदड़ में 121 लोगों की मौत हो गई है। इस घटना के बाद सत्संग कराने वाले बाबा सूरज मित्र उर्फ ​​भोले बाबा की तलाश जारी है।

राहुल गांधी की खबर: अलीगढ़ में  कांग्रेस सांसद राहुल गांधी शुक्रवार (5 जुलाई) को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले पहुंचे और हाथरस हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों से मुलाकात की। वह सुबह ही दिल्ली से अलीगढ़ और हाथरस के लिए रवाना हो गए। शाम करीब साढ़े सात बजे राहुल गांधी अलीगढ़ के पिलखना गांव पहुंचे, जहां उन्होंने पीड़ित परिवारों से मुलाकात की और उनका दुख-दर्द जाना। हाथरस में मंगलवार (2 जुलाई) को सत्संग के दौरान मची भगदड़ में 121 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि दर्जनों लोग घायल हुए थे। अलीगढ़ से सटे हाथरस जिले के फुलेराई गांव में धर्म प्रचारक सूरज मित्र का सत्संग था, जिसमें हिस्सा लेने के लिए सैकड़ों लोग पहुंचे थे। इसी दौरान भगदड़ मच गई, जिसमें दबकर लोगों की जान चली गई। इस हादसे में मरने वालों में ज्यादातर लड़कियां हैं। सूरज मित्र को मानने वाले लोग, उनके अनुयायी उन्हें नारायण साकार हरि और भोले बाबा के नाम से पहचानते हैं। हादसे के बाद से ही बाबा की तलाश जारी है। फिलहाल पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

हाथरस पीड़ितों से मिले राहुल गांधी

अलीगढ़ में पीड़ित परिवारों से राहुल गांधी की मुलाकात का एक वीडियो भी सामने आया है। इसमें राहुल बैठे-बैठे परिजनों से बात करते और उनकी समस्याएं सुनते नजर आ रहे हैं। राहुल जहां बैठे हैं, उनके इर्द-गिर्द लोगों की भीड़ खड़ी है, जिसमें महिलाएं और बच्चे भी नजर आ रहे हैं। कांग्रेस नेता सभी की बातें ध्यान से सुन रहे हैं और उनके सवालों का जवाब दे रहे हैं। राहुल यहां आधे घंटे से ज्यादा समय तक रहे और सभी की बातें सुनीं।

अलीगढ़ में राहुल गांधी किसके घर गए?

कांग्रेस नेता राहुल अलीगढ़ में काजल के घर पहुंचे थे, जिनकी मां और भाई की मौत हाथरस हादसे में हो गई थी। काजल लगातार रो-रोकर बदहवास है। काजल का कहना है कि उसे नहीं पता कि अब वह कैसे रह पाएगी। उसने मांग की कि आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। पीड़ित परिवारों ने बताया है कि राहुल गांधी ने उन्हें बताया कि वह मदद करेंगे। राहुल पीड़ितों को सांत्वना देते भी नजर आए।

मां का शव बर्फ में पड़ा मिला, पीड़िता ने राहुल को बताया

राहुल ने भगदड़ की शिकार हुई प्रेमवती देवी के परिजनों से भी मुलाकात की है। प्रेमवती के चार बेटे हैं, जिनसे राहुल ने मुलाकात कर उनका दुख जाना। प्रेमवती के बेटे बिजेंद्र ने बताया कि मां पिछले 9 साल से सत्संग में जा रही थीं। इस बार भगदड़ में उनकी जान चली गई। मां के साथ गांव के कुछ लोग भी गए थे। हमारे इलाके से एक ऑटो निकला था। मां उसी ऑटो में सवार होकर गई थीं। हमें बताया गया कि ऑटो दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। बिजेंद्र ने यह भी कहा कि हमें पहले नहीं बताया गया कि भगदड़ मची है। जब भैया वहां पहुंचे तो हमें पता चला कि क्या हुआ है। भावुक होते हुए प्रेमवती के बेटे ने बताया कि हमने मां को काफी ढूंढा, लेकिन वह नहीं मिलीं। बाद में पता चला कि वह बर्फ में पड़ी थीं। वह बहुत ही भयावह स्थिति में थीं। अधिकारी और बाबा (सूरज पाल) सभी लापता हैं। वहां सुरक्षा के लिए ज्यादा पुलिसकर्मी होने चाहिए थे।

3.5 लाख लोगों की भीड़ जुटी थी, लेकिन पुलिसकर्मी कम थे

प्रेमवती के दूसरे बेटे अरविंद ने राहुल से कहा कि कमेटी की गलती है। यह बाबा की गलती है। 80 हजार की जगह 3.5 लाख लोग वहां जमा हो गए। वहां 20-25 पुलिसकर्मी थे, जबकि कम से कम 2 सौ-250 पुलिसकर्मी होने चाहिए थे। अगर वहां ज्यादा रास्ते खुले होते तो यह संयोग नहीं बनता। घटनास्थल पर केवल एक ही मुख्य सड़क थी, इसलिए भगदड़ में सभी लोग मारे गए। मैंने 5 साल पहले सत्संग जाना शुरू किया था। मैं अपनी मां के साथ 2-3 साल तक गया, लेकिन मुझे बाबा में कुछ भी नजर नहीं आया। मैंने वहां जाना बंद कर दिया था। मैं अपनी मां से भी कहता था, लेकिन उन्होंने ध्यान नहीं दिया।

बाबा ने अपील की होती तो शायद भगदड़ नहीं होती: अरविंद

अरविंद ने कांग्रेस नेता से यह भी कहा कि मेरी मां को बाबा पर भरोसा था। अब हमें बाबा और कमेटी के सदस्यों के खिलाफ आंदोलन की जरूरत है। रोते हुए अरविंद ने कहा कि जब बाबा के सामने भगदड़ हुई थी, तो उन्हें लोगों से अपील करनी चाहिए थी कि वे घबराएं नहीं। अगर बाबा ने उन्हें रोका होता, तो लोग रुक जाते। अगर बाबा ने अपील की होती, तो भगदड़ नहीं होती। सैकड़ों लोगों की जान बच जाती।

उन्होंने यह भी कहा कि वे दुर्घटना के दौरान ही चले गए। उन्होंने फिर मुड़कर भी नहीं देखा। एफआईआर में बाबा का नाम भी होना चाहिए। प्रेमवती के तीसरे बेटे ने कहा कि बाबा को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। अगर बाबा में शक्ति होती तो वे मेरी मां को जिंदा जला देते। वे देखने भी नहीं आए। इस पर राहुल गांधी ने कहा कि आपकी मांग संसद में उठाई जाएगी।

हाथरस में भगदड़ मचने पर बाबा चले गए, घायल महिला के परिजन

उषा देवी भी सत्संग में गई थीं। अब वे घायल हैं और बोल नहीं पा रही हैं। राहुल गांधी उनके परिजनों से भी मिले। उन्होंने कांग्रेस नेता को बताया कि जब हम रात में मौके पर पहुंचे तो उन्हें उठाकर ले गए। हमने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। सत्संग में कई महिलाएं गई थीं। उषा देवी की बहू पूजा भी गई थीं। जब भगदड़ मची तो बाबा चले गए।

परिजनों ने कहा कि बाबा को ध्यान लगाना बहुत पसंद है। किसी ने इस घटना को अंजाम दिया है। बाहर से लोग आए थे। हम नहीं मानते कि बाबा की कोई गलती है। बाबा की एक गलती यह है कि वे लोगों के सामने नहीं आए। हम बाबा के चमत्कारों से सहमत हैं। मेरे साथ भी चमत्कार हुए हैं। लोगों को कोई रास्ता नहीं मिला। अब सत्संग होने पर भी वे पार नहीं जा पाएंगे।

कांग्रेस नेता ने परिवारों को मदद का भरोसा दिया

राहुल से मुलाकात के बाद पीड़ित परिवार की एक महिला ने कहा, “उन्होंने हमसे कहा है कि वे पार्टी के दौरान हमारी मदद करेंगे। उन्होंने हमसे पूछा कि यह सब कैसे हुआ। हमने उन्हें बताया है कि किस तरह लापरवाही बरती गई है।” पीड़ितों के परिजनों से मिलने के बाद कांग्रेस नेता वहां से चले गए। इस दौरान वे सुरक्षाकर्मियों से घिरे गांव की संकरी गलियों से गुजरते नजर आए। उन्होंने वहां खड़े लोगों का हाथ जोड़कर अभिवादन भी किया। अलीगढ़ के बाद राहुल हाथरस पहुंचे और वहां भी उन्होंने पीड़ितों से मुलाकात की।

यह भी पढ़ें: हाथरस भगदड़ के पीड़ितों से राहुल गांधी ने किया ये वादा, परिवार बोला- हमसे पूछा कि…

हाथरस केस: व्लादिमीर पुतिन ने हाथरस हादसे पर दिया बयान, कहा- मैं बहुत दुखी हूं

हाथरस केस: व्लादिमीर पुतिन ने हाथरस हादसे पर दिया बयान, कहा- मैं बहुत दुखी हूं

हाथरस केस: उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में भगदड़ के दौरान 121 लोगों की मौत के बाद रूस के राष्ट्रपति और जापान के प्रधानमंत्री ने शोक संदेश भेजे हैं।
हाथरस केस: उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में भगदड़ के दौरान 121 लोगों की मौत पर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और पूर्वी प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने शोक व्यक्त किया है। भारत में रूसी दूतावास ने बुधवार को एक्स हैंडल पर लिखा, ‘रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने उत्तर प्रदेश में भगदड़ की घटना को लेकर भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शोक संदेश भेजा है। उन्होंने लिखा है कि कृपया उत्तर प्रदेश में हुई दुखद घटना पर संवेदना व्यक्त करें।’
पूर्वी प्रधानमंत्री किशिदा ने अपने शोक संदेश में कहा कि उन्हें यह जानकर बहुत दुख हुआ कि भारत में भगदड़ के कारण कई लोगों की जान चली गई। जापान के विदेश मंत्रालय की वेबसाइट पर एक पोस्ट में किशिदा ने कहा, ‘जापान सरकार की ओर से मैं मृतकों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं, शोक संतप्त परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की ईश्वर से प्रार्थना करता हूं।’

हाथरस मामले में पुलिस ने दर्ज किया मामला

दरअसल, उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में एक कथित धर्म प्रचारक ने सिकंदराराऊ क्षेत्र के फुलराई गांव में धर्म प्रचार के लिए एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया था। इस दौरान जूते और टाई बेल्ट पहनकर धर्म प्रचार करने वाला कथित बाबा अपने काफिले के साथ निकल गया, लेकिन लोग उसमें फंस गए। एक छोटे से गेट से भीड़ को हटाने के दौरान भगदड़ मच गई, जिसमें 121 लोगों की जान चली गई और कई लोग घायल हो गए। उत्तर प्रदेश पुलिस ने आयोजकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने आयोजकों पर साक्ष्य छिपाने और नियमों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि प्रशासन ने सिर्फ 80 हजार लोगों के एकत्र होने की अनुमति दी थी, लेकिन पंडाल में 2.5 लाख लोग एकत्र हो गए, जिन्हें संभालना मुश्किल हो गया।

सोलर पैनल: कम कीमत पर 10 किलोवाट का सोलर पैनल लगवाने का बढ़िया मौका! शायद अब ऐसा मौका न मिले

सोलर पैनल: कम कीमत पर 10 किलोवाट का सोलर पैनल लगवाने का बढ़िया मौका! शायद अब ऐसा मौका न मिले

सोलर पैनल: आजकल सोलर बिजली का इस्तेमाल अप्रत्याशित रूप से बढ़ रहा है, सोलर पैनल का इस्तेमाल सूरज की बिजली से बिजली बनाने के लिए किया जाता है, सोलर पैनल पर्यावरण के अनुकूल तरीके से ऊर्जा पैदा करते हैं, इनके इस्तेमाल से बिजली का बिल कम आता है। सोलर पैनल का इस्तेमाल हर तरह के इलाके में किया जा सकता है।

10 किलोवाट का सोलर पैनल

10 किलोवाट का सोलर पैनल रिहायशी इलाकों या व्यावसायिक इलाकों के लिए कारगर माना जाता है, इस क्षमता का सोलर पैनल एक दिन में 40 से 45 यूनिट बिजली पैदा करता है। इस क्षमता का सोलर पैनल लगाने के लिए 850 वर्ग फीट जगह की जरूरत होती है। आप अपनी जरूरत के हिसाब से ऑन-ग्रिड या ऑफ-ग्रिड सोलर डिवाइस लगवा सकते हैं। इससे आप बिजली के बिल में भी बचत कर सकते हैं।

10 किलोवाट की ऑन-ग्रिड सोलर मशीन की कीमत

10 किलोवाट की क्षमता वाली ऑन-ग्रिड सोलर मशीन में सोलर पैनल से पैदा होने वाली ऊर्जा ग्रिड के साथ शेयर की जाती है, जिससे बिजली का बिल आसानी से कम हो सकता है। इस सोलर डिवाइस में पैनल से उत्पन्न ऊर्जा को ग्रिड के साथ साझा किया जाता है, इस डिवाइस में सोलर पैनल, सोलर इनवर्टर मुख्य सिस्टम हैं, मशीन में साझा की गई बिजली की गणना करने के लिए इंटरनेट-मीटरिंग की जाती है। 10 किलोवाट की ऑनग्रिड मशीन लगाने की लागत करीब पांच लाख रुपये से 5.50 लाख रुपये तक हो सकती है। इस पर आपको 78 हजार की सब्सिडी मिल सकती है।

10 किलोवाट ऑफग्रिड सन सिस्टम चार्ज

ऑफग्रिड सिस्टम में पैनल से उत्पन्न बिजली को बैटरी में सेव किया जा सकता है, इस मशीन में सोलर पैनल, सोलर इनवर्टर और सन बैटरी मुख्य उपकरण हैं, ग्राहक अपनी जरूरत के हिसाब से सन बैटरी में सेव की गई बिजली का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस सोलर डिवाइस को लगाने की कुल लागत करीब 7 लाख रुपये से 8 लाख रुपये तक हो सकती है। ऐसे सिस्टम में बिजली बैकअप की सुविधा मिलती है।

सन पैनल लगाने से पर्यावरण को स्वच्छ और सुरक्षित रखा जा सकता है, साथ ही यह डिवाइस बिजली बिल को कम करने में भी मदद करती है

Royal Enfield Guerrilla 450 चार्ज: की यह क्रूजर मोटरसाइकिल अपने स्मार्ट फंक्शन से बच्चों का दिल जीत लेगी, जल्द ही भारत में होगी लॉन्च

Royal Enfield Guerrilla 450 चार्ज: की यह क्रूजर मोटरसाइकिल अपने स्मार्ट फंक्शन से बच्चों का दिल जीत लेगी, जल्द ही भारत में होगी लॉन्च

रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 चार्ज: आजकल भारत में रॉयल एनफील्ड मोटरसाइकिलों को सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है क्योंकि इस कंपनी की बाइक्स को आज हर बच्चा पसंद करता है क्योंकि इसमें पावरफुल इंजन और शानदार लुक होता है! आजकल बाजार में रॉयल एनफील्ड के एक्सक्लूसिव एडिशन की डिमांड दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है, जिसके चलते कंपनी भारतीय बाजार में पावरफुल इंजन वाली एक और शानदार मोटरसाइकिल लॉन्च करने जा रही है, जिसे रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 बाइक के नाम से बाजार में उतारा जाएगा!

रॉयल एनफील्ड की यह पावरफुल इंजन वाली बाइक जल्द ही भारतीय बाजार में लॉन्च होने जा रही है! जिसमें आपको कई नए और स्मार्ट फीचर्स देखने को मिलेंगे! आजकल हर बच्चा इस रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 मोटरसाइकिल के लॉन्च होने का बेसब्री से इंतजार कर रहा है! रॉयल एनफील्ड की यह अपकमिंग बाइक थोड़ी महंगी हो सकती है, लेकिन आपको इस मोटरसाइकिल का मुकाबला कहीं नहीं मिलेगा! आइए जानते हैं इस मोटरसाइकिल की लॉन्च डेट और इसमें क्या-क्या फीचर मिलने वाले हैं और इसकी कीमत क्या होगी!

रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 इंजन

रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 मोटरसाइकिल के इंजन की बात करें! तो इसमें आपको 450 cc का शानदार इंजन मिलने वाला है! जो अधिकतम 39.5bhp की पावर और 40Nm का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम होगा! कंपनी ने इस मोटरसाइकिल के इंजन को 6-स्पीड ट्रांसमिशन के साथ जोड़ा है! इस मोटरसाइकिल की माइलेज की बात करें तो इसमें आपको 30 kmpl की शानदार माइलेज मिलने वाली है!

रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 के फीचर

रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 बाइक के फीचर की बात करें! तो इसमें आपको कई नए जमाने के स्मार्ट फीचर मिलने वाले हैं! जिसमें आपको डिजिटल ओडोमीटर, स्पीडोमीटर, राइड मीटर, ब्लूटूथ कनेक्टिविटी जैसे कई अन्य फीचर्स मिल गए हैं! फ्रंट और रियर में डिस्क ब्रेक के साथ ट्विन-चैनल ABS गैजेट दिया गया है! यह मोटरसाइकिल अपने नए स्मार्ट फीचर्स से हर बच्चे का दिल जीतने वाली है! अगर आप भी अपने लिए रॉयल एनफील्ड की एक शानदार क्रूजर मोटरसाइकिल खरीदने के बारे में सोच रहे हैं! तो यह अपकमिंग रॉयल एनफील्ड गुरिल्ला 450 मोटरसाइकिल आपके लिए एक बेहतर विकल्प हो सकती है! इस मोटरसाइकिल की कीमत की बात करें तो कंपनी इसे भारतीय बाजार में 2,60,000 रुपये की एक्स-शोरूम कीमत पर लॉन्च करने जा रही है!

FD स्कीम: एक बार करें 25 हजार रुपए का निवेश! इतने सालों में मिलेंगे नौ लाख रुपए

FD स्कीम: एक बार करें 25 हजार रुपए का निवेश! इतने सालों में मिलेंगे नौ लाख रुपए

FD स्कीम: हेलो दोस्तों, आज के हमारे नए आर्टिकल में आपका स्वागत है, चाहे निवेश शेयर बाजार में हो या म्यूचुअल फंड में, आप FD में भी पैसा लगा सकते हैं। किसी भी क्षेत्र में निवेश सबसे बढ़िया हो सकता है जो आपको उचित रिटर्न दे सके, साथ ही आजकल ऐसे कई विकल्प मौजूद हैं, जिनमें निवेश करके आप सटीक रिटर्न पा सकते हैं।

आज इस आर्टिकल में हम आपको भारत के सरकारी बैंक से मिलने वाले म्यूचुअल फंड के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें आप निवेश शुरू कर सकते हैं और उचित रिटर्न पा सकते हैं, सिर्फ ₹25000 के निवेश से आपको 12 साल में 9.958 लाख रुपए मिलेंगे। एसबीआई म्यूचुअल फंड ग्राफ
आप सभी के आंकड़ों के लिए बता दें कि अगर आप इस स्कीम में अपना पैसा निवेश करते हैं तो आपको 40 गुना रिटर्न मिलेगा, आप इस पर यकीन नहीं करेंगे लेकिन एसबीआई की तरफ से आने वाली यह स्कीम काफी अच्छा रिटर्न देती है, आइए जानते हैं इसकी खासियत।

क्या है स्कीम का नाम

देश के बैंक की तरफ से आने वाली यह स्कीम लंपसम स्कीम के नाम से काफी मशहूर है। अगर आप इस स्कीम के जरिए अपना पैसा निवेश करते हैं तो आपको भविष्य में अच्छा रिटर्न मिलेगा। वयस्क होने पर आपको पूरे 9.58 लाख रुपए मिलेंगे।

इतना ब्याज मिलने वाला है

लंपसम स्कीम जो कि भारत के राष्ट्रीय बैंक की सबसे मशहूर स्कीम में से एक है, इसके तहत आप सभी को पिछले दो सालों में 35 फीसदी से लेकर 21.71 फीसदी तक का रिटर्न मिला है। इसके अलावा अगर पांच साल के रिटर्न की बात करें तो इस फंड के तहत 21.44 फीसदी का रिटर्न मिला है, वहीं अगर रिटर्न की बात करें तो इसमें औसतन 20 फीसदी से ज्यादा का रिटर्न मिला है, इसी के साथ फंड हाउस ने अब तक करीब 1255 करोड़ रुपये के निवेश का लक्ष्य हासिल कर लिया है।

इस तरह आपको 9.58 लाख रुपये का रिटर्न मिल सकता है

जैसा कि हमने आपको तथ्यों के अंदर बताया है कि नेशनल बैंक से आने वाला यह म्यूचुअल फंड आपको 9.58 लाख रुपये का रिटर्न देने वाला है, इसके लिए आपको इसे विस्तार से समझना होगा, इस स्कीम के तहत सालाना 20 फीसदी का रिटर्न दिया जाता है, इसके लिए आपको इसमें ₹25000 का निवेश करना होगा, बीस साल तक निवेश करने के बाद आपको 958440 की कुल रकम मिलेगी और यह फंड समय-समय पर रिटर्न देता है, वैसे यह सबसे अच्छी स्कीम में से एक है।

Exit mobile version