/ Home -

अयोध्या में रामलला की प्रतिष्ठा से पहले श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अहम बैठक आज, जानें एजेंडा. नई दिल्ली: अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से पहले आज से ताबड़तोड़ बैठकों का दौर शुरू हो रहा है.

रामलला के अभिषेक को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट

अयोध्या में रामलला की प्रतिष्ठा से पहले श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अहम बैठक आज, जानें एजेंडा.

रामलला के अभिषेक को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट

नई दिल्ली: अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से पहले आज से ताबड़तोड़ बैठकों का दौर शुरू हो रहा है. रामलला के अभिषेक को लेकर आज श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अहम बैठक होगी, जिसमें 22 जनवरी को मंदिर के उद्घाटन और रामलला के अभिषेक की तैयारियों पर विस्तार से चर्चा होगी. बताया जा रहा है कि इस अहम बैठक में श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सभी 15 सदस्यों को बुलाया गया है.

इतना ही नहीं, इस बैठक के अगले ही दिन यानी 29 दिसंबर को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की एक और अहम बैठक होगी, जिसमें यह तय किया जाएगा कि गर्भगृह में रामलला की कौन सी मूर्ति स्थापित की जाए. बताया जा रहा है कि प्राण प्रतिष्ठा के बाद भगवान राम की इस मूर्ति की पूजा की जाएगी. ट्रस्ट के कुछ सदस्यों का मानना है कि भगवान राम की मूर्ति के चयन के लिए वोटिंग प्रक्रिया अपनाई जा सकती है. वहीं, कुछ सदस्यों का कहना है कि इसके लिए आम सहमति बनाने पर जोर दिया जाएगा.

सूत्रों का कहना है कि भगवान रामलला की मूर्ति 51 इंच ऊंची है और तीन मूर्तियां एक ही तरह से बनाई गई हैं. भगवान राम के गर्भगृह के लिए किसी एक मूर्ति का चयन करना होगा. इस पर कल यानी 29 तारीख को फैसला हो सकता है. आपको बता दें कि 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर का उद्घाटन किया जाएगा, जबकि रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी, जिसके लिए शुभ समय भी निर्धारित किया गया है।

अयोध्या के कायाकल्प की तैयारी

आपको बता दें कि अयोध्या में 22 जनवरी को प्रस्तावित श्री राम जन्मभूमि मंदिर के भव्य प्रतिष्ठा कार्यक्रम से पहले पूरे क्षेत्र के कायाकल्प की प्रक्रिया चल रही है. पहला, 30 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्तावित अयोध्या दौरे से पहले योगी सरकार द्वारा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर को जोड़ने वाले सभी प्रमुख मार्गों पर रामायण काल के महत्वपूर्ण प्रसंगों का आकर्षक चित्रण करने की दिशा में किए जा रहे प्रयास तेज किए जा रहे हैं. सरकारी बयान में कहा गया है कि यूपी की आर्थिक प्रगति का मार्ग प्रशस्त करने के साथ-साथ राज्य के आध्यात्मिक मूल्यों को संरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार रामनगरी अयोध्या को सजाने-संवारने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है. एक भव्य रूप.

‘हमारी एक नजर टी20 वर्ल्ड कप पर T20 World Cup’ है- हाथुरुसिंघा

T20 World Cup

‘हमारी एक नजर टी20 वर्ल्ड कप पर T20 World Cup’ है- हाथुरुसिंघा

T20 World Cup

बांग्लादेश को उम्मीद है कि न्यूजीलैंड में उनकी पहली वनडे जीत उन्हें मेजबान टीम के खिलाफ आगामी T20 World Cup के लिए तैयार करेगी। बांग्लादेश लगातार 18 हार के बाद न्यूजीलैंड में वनडे की समस्या को तोड़ने में कामयाब रहा और टी20ई क्रिकेट में, उनका दुनिया के इस हिस्से में अब तक सभी नौ मैच हारने का एक फिर से निराशाजनक रिकॉर्ड है।

बांग्लादेश के मुख्य कोच चंडिका हथुरुसिंघा ने नेपियर में पहले गेम से पहले संवाददाताओं से कहा, “हमने यहां कोई T20 World Cup नहीं जीता है। यह वनडे क्रिकेट के समान था लेकिन फिर हम आखिरी गेम जीतने में कामयाब रहे।”

“निश्चित रूप से इससे (नेपियर में न्यूजीलैंड पर वनडे जीत) मानसिक रूप से मदद मिलेगी जब आप एक अच्छी जीत हासिल करते हैं तो आप हमेशा अच्छा महसूस करते हैं और क्योंकि आपने कुछ ऐसा किया है जिसे आप फिर से दोहराना चाहते हैं, चाहे प्रारूप कोई भी हो और इससे हमें आगे बढ़ने का आत्मविश्वास मिलेगा।” T20 World Cup ,” उन्होंने कहा।

बांग्लादेश भी सबसे छोटे प्रारूप में अपनी अजेय लय को बरकरार रखने के लिए उत्सुक है, जिसने 2023 में अब तक खेली गई सभी तीन टी20ई श्रृंखलाएं जीती हैं, जिसमें इंग्लैंड, आयरलैंड और अफगानिस्तान के खिलाफ अपनी ही धरती पर जीत हासिल की है। न्यूजीलैंड में टी20 सीरीज जीतना पर्यटकों के लिए सोने पर सुहागा होगा क्योंकि वे अगले टी20 विश्व कप की तैयारी कर रहे हैं।

बांग्लादेश शोपीस इवेंट से पहले 11 टी20 मैच खेलेगा जिसमें न्यूजीलैंड के खिलाफ ये तीन मैच शामिल हैं, जबकि उन्हें श्रीलंका और जिम्बाब्वे की मेजबानी भी करनी है। इसके अलावा खिलाड़ी बांग्लादेश प्रीमियर लीग में भी खेलेंगे। हाथुरुसिंघा ने कहा, “योजना के हिसाब से स्थिति तय करती है। हम कई योजनाएं एक ही समय में लागू करना चाहते हैं और हम टी20 विश्व कप पर भी नजर रखना चाहते हैं और इसलिए हम उसके लिए अपनी योजनाओं को सही करने की कोशिश कर रहे हैं।”

हाथुरुसिंघा ने कहा, “हमें अभी 11 मैच मिले हैं और फिर बीपीएल भी, लेकिन यह एक राष्ट्रीय टीम है इसलिए हम अपना संयोजन बनाने की कोशिश कर रहे हैं और खिलाड़ियों को उस तरह की भूमिकाएं दे रहे हैं जो वे विश्व कप के दौरान निभाएंगे और इसलिए यही योजना है।” उन्होंने कहा कि टूर्नामेंट से पहले खेलों की कमी को लेकर वे अपनी नींद नहीं खो रहे हैं

“मैंने विश्व कप के लिए अब से 11 मैचों के बारे में कहा है और मैचों के संदर्भ में हमें यही मिला है। चाहे यह आदर्श हो या नहीं, हमें बस इतना ही मिला है, हमें अपनी योजनाएं बनानी होंगी और

मुकेश अंबानी की Reliance-Disney Star deal explained: की व्याख्या: मेगा-विलय पर 10 बिंदु

Reliance-Disney Star deal explained

मुकेश अंबानी की Reliance-Disney Star deal explained: की व्याख्या: मेगा-विलय पर 10 बिंदु

Reliance-Disney Star deal explained

भारत में सबसे बड़े मनोरंजन विलय की दिशा में एक कदम आगे बढ़ाते हुए, रिलायंस और डिज़नी स्टार ने पिछले हफ्ते लंदन में एक गैर-बाध्यकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। इस समझौते के अनुसार, रिलायंस और डिज़नी के बीच मेगा-विलय को फरवरी 2024 में अंतिम रूप दिया जाएगा। मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इस विलय को जनवरी में ही अंतिम रूप देने के लिए जोर दे रही है, लेकिन अभी भी कई विवरणों को सुलझाना बाकी है। अंबानी के करीबी सहयोगी मनोज मोदी और डिज्नी के पूर्व कार्यकारी केविन मेयर के बीच महीनों की बातचीत के बाद गैर-बाध्यकारी समझौReliance-Disney Star deal explainedता किया गया, जिसे इस साल कंपनी में लाया गया था।

Reliance-Disney Star deal explained : विलय के बारे में जानने योग्य 10 बातें।

 

  1.  रिलायंस और डिज्नी स्टार की डील है भारत में अब तक के सबसे बड़े मनोरंजन विलय की उम्मीद है। विलय की गई इकाई को दोनों कंपनियों द्वारा समान रूप से नियंत्रित किया जाएगा, जिसमें रिलायंस और डिज़नी के निदेशकों की समान संख्या होगी।

2.  विलय का मुख्य उद्देश्य Viacom18 (रिलायंस के स्वामित्व वाली) की एक सहायक कंपनी बनाना है, जो स्टॉक स्वैप के माध्यम से स्टार इंडिया को अवशोषित करेगी।

3.  विलय की गई इकाई में मुकेश अंबानी की रिलायंस बहुमत शेयरधारक होगी, जिसके पास 51 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी, जबकि वॉल्ट डिज़नी कंपनी के पास 49 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी।

4.  रिलायंस के ओटीटी प्लेटफॉर्म जियो सिनेमा और डिज्नी+हॉटस्टार के भी इस डील का हिस्सा बनने की उम्मीद है। इस विलय से हॉटस्टार का उत्थान होगा क्योंकि यह लगातार घाटे से जूझ रहा है।

5.  रिलायंस और डिज़नी स्टार दोनों इस सौदे में 1.5 बिलियन डॉलर से अधिक का निवेश करना चाह रहे हैं, जिसके तहत अंबानी की कंपनी को स्टार इंडिया के चैनलों का वितरण नियंत्रण हासिल होगा।

6.  रिलायंस-डिज्नी डील का विस्तार टीवी चैनलों और ओटीटी प्लेटफार्मों से परे होगा, विशेष रूप से भारत में क्रिकेट सीज़न के दौरान उनकी विज्ञापन की शक्ति पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

7.  क्रिकेट स्ट्रीमिंग अधिकारों को लेकर उनके और रिलायंस के बीच बोली युद्ध के कारण डिज़नी स्टार ने इस सौदे में गहरी दिलचस्पी दिखाई। अमेरिका स्थित कंपनी भारत में भी अपनी उपस्थिति सुधारने पर विचार कर रही थी।

8.  जबकि विलय में रिलायंस नियंत्रक पक्ष होगा, इस सौदे से डिज़नी को बहुत लाभ होने की उम्मीद है क्योंकि चूंकि उसके टीवी चैनल भारत में लाभ कमा रहे हैं, इसलिए उसकी अन्य कंपनियों के लिए ऐसा नहीं कहा जा सकता है।

9.  उम्मीद है कि मुकेश अंबानी के बड़े बेटे आकाश अंबानी निदेशक मंडल में शामिल होंगे। इस सीट के लिए एक अन्य शीर्ष दावेदार बोधि ट्री के उदय शंकर हैं, जिनके पास रिलायंस के बाद Viacom18 में सबसे बड़े शेयर हैं।

10.  हालांकि विलय के बाद बनने वाली नई इकाई के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, लेकिन उम्मीद है कि इसकी प्रमुख प्रतिस्पर्धा नेटफ्लिक्स और अमेज़ॅन जैसी स्ट्रीमिंग सेवाएं होंगी।

इस तरह की और खबरें पढ़ें  पर

Maruti Suzuki Franks: 2023 में एक नई क्रांति

Maruti Suzuki Franks:

Maruti Suzuki Franks: 2023 में एक नई क्रांति

 

Maruti Suzuki Franks:

आज के तेजी से बदलते ऑटोमोटिव इंडस्ट्री में, एक नई क्रांति का नाम है – “Maruti Suzuki Franks.” इस नए मॉडल ने 2023 में बाजार में धूम मचा दी है, और इसके पीछे कई रोचक कहानियां छुपी हैं।

डिज़ाइन और सौंदर्य:

फ्रॉन्क्स का डिज़ाइन हर किसी को मोहित कर रहा है। इसमें नवाचारी डिज़ाइन एलीमेंट्स हैं, जो इसे सबसे आकर्षक बनाते हैं, विशेषकर उन युवा जनरेशन के लिए जो एक हटकर और आधुनिक ऑटोमोटिव अनुभव की तलाश में हैं।

प्रदर्शन अपग्रेड:

फ्रॉन्क्स ने न केवल अपने डिज़ाइन में क्रांति किया है, बल्कि इसने अपने इंजन की क्षमताओं में भी सुधार किया है। नई तकनीकों का समावेश करने से इसकी चालन क्षमता में वृद्धि हुई है, जिससे यात्रा का अद्भुत अनुभव हो रहा है।

तकनीकी उन्नति:

फ्रॉन्क्स ने न केवल डिज़ाइन और प्रदर्शन में क्रांति की है, बल्कि इसने नवाचारी तकनीक को भी अपनाया है। इसमें नवीनतम तकनीकी सुविधाएँ शामिल हैं, जो ड्राइविंग अनुभव को और भी बेहतर बनाती हैं।

सुरक्षा सुविधाएँ:

फ्रॉन्क्स में सुरक्षा को लेकर कोई कमी नहीं है। इसमें सुरक्षा की कई नई सुविधाएँ हैं, जो इसे सुरक्षित बनाती हैं और ड्राइवरों को विश्वास प्रदान करती हैं।

स्थायिता पहल:

फ्रॉन्क्स ने वायुमंडलीय संरक्षण में अपना योगदान दिया है। इसमें उसे एक पर्यावरण-सौहार्द्यपूर्ण विकल्प बनाने के लिए कई ऊर्जा-संवेदनशील सुविधाएँ हैं, जो उपभोक्ताओं को एक ही समय में सुखद और सूर्यप्रकाशित अनुभव का आनंद लेने का एक अद्वितीय मौका प्रदान करती हैं।

बाजार पर प्रभाव:

फ्रॉन्क्स के आगमन से बाजार में एक तहलका मचा है। इसकी पूर्वानुमानित डिमांड ने इसे बाजार में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बना दिया है, और इसके प्रतिष्ठान्ता बढ़ रही है।

उपभोक्ता समीक्षा और प्रतिक्रिया:

इस नए ऑटोमोटिव विचार को लेकर उपभोक्ताओं की पहली प्रतिक्रिया बहुत ही उत्साही है। सोशल मीडिया पर इसकी छायाचित्र देखने के बाद, यह लगता है कि फ्रॉन्क्स ने लोगों के दिलों में छाया हुआ है।

फ्रॉन्क्स हिंदी सिनेमा में:

क्या आपने कभी सोचा है कि फ्रॉन्क्स हिंदी सिनेमा में दिखाई गई है? यह मॉडल किसी फिल्म में या म्यूजिक वीडियो में नजर आया हो सकता है। इसका किसी चरित्र के साथ संबंध हो सकता है, जिससे यह एक कल्चरल इम्पैक्ट बनाता है।

कस्टमाइजेशन विकल्प:

फ्रॉन्क्स में कई विकल्प हैं, जिनसे उपभोक्ता अपनी गाड़ी को अपने अनुसार अनुकूलित कर सकते हैं। यह उपभोक्ताओं को उनकी आवश्यकताओं के अनुसार एक अद्वितीय ड्राइविंग अनुभव प्रदान करता है।

पिछले मॉडल्स की तुलना:

फ्रॉन्क्स को पिछले सुजुकी मॉडल्स के साथ तुलना करना महत्वपूर्ण है। इससे हम देख सकते हैं कि कैसे यह मॉडल ने डिज़ाइन और उपयोगिता में कैसे सुधार किए हैं।

मूल्य और कीमत:

फ्रॉन्क्स की मूल्यनिर्धारण रणनीतियों का विश्लेषण करते हुए, हम देख सकते हैं कि यह उपभोक्ताओं के लिए कैसे एक उत्कृष्ट मूल्य प्रस्तुत करता है और उन्हें कैसे आकर्षित करता है।

डीलर नेटवर्क का विस्तार: मारुति सुजुकी ने 2023 में फ्रॉन्टेक्स के साथ एक नए युग की शुरुआत की है और इस क्रांति के हिस्से के रूप में उनके डीलर नेटवर्क का विस्तार किया गया है। नए उत्कृष्ट और उन्नत तकनीकी विशेषज्ञता के साथ, फ्रॉन्टेक्स ने भारत में सुजुकी के ब्रांड को एक नए स्तर पर ले जाने का प्रयास किया है।

डीलर नेटवर्क का विस्तार से, सुजुकी ने विभिन्न शहरों और उपनगरों में नए शोरूम्स खोले हैं, जो उपभोक्ताओं को इस नए और उन्नत तकनीकी गाड़ी को आसानी से देखने और खरीदने का मौका देगा। नए डीलर्स का विस्तार करने से सुजुकी ने ग्राहकों को अधिक विकल्प, सेवा और समर्पितता के साथ एक बेहतर अनुभव प्रदान करने का लक्ष्य रखा है।

FAQ (पूछे जाने वाले प्रश्न):

1. फ्रॉन्टेक्स के मॉडल में कौन-कौन सी नई तकनीकें हैं?

  • फ्रॉन्टेक्स में नई तकनीकों में शामिल हैं स्मार्ट ड्राइविंग सिस्टम, एडवांस्ड बैटरी तकनीक, और एक एलेक्ट्रिक इंजन जो सुरक्षित, ऊर्जा सुरक्षित और पर्यावरण के प्रति सहायक है।

2. नए डीलरशिप्स कहाँ खोली गई हैं?

  • मारुति सुजुकी ने नए डीलरशिप्स को विभिन्न भारतीय शहरों में खोला है, जिससे ग्राहकों को विकल्पों में वृद्धि होगी।

3. फ्रॉन्टेक्स की चार्जिंग क्षमता क्या है?

  • फ्रॉन्टेक्स की एक विशेषता है फास्ट चार्जिंग, जिससे आप गाड़ी को कम समय में भर सकते हैं, और इससे लंबी यात्राएँ संभव होती हैं।

4. गाड़ी की सुरक्षा के लिए क्या उपाय किए गए हैं?

  • फ्रॉन्टेक्स में सुरक्षा को महत्वपूर्ण मानते हुए, इसमें एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम, एयरबैग्स, और एंटी-थीफ इमोबाइलाइजर जैसी सुरक्षा सुविधाएं शामिल की गई हैं।

वेजाइनल डिस्चार्ज कैसे होता है: Decoding the Signals of Women’s Health

Decoding the Signals of Women's Health

वेजाइनल डिस्चार्ज कैसे होता है: Decoding the Signals of Women’s Health

Decoding the Signals of Women's Health

Introduction परिचय

 

Decoding the Signals of Women’s Health के समग्र कल्याण का एक अभिन्न पहलू है। अच्छे प्रजनन स्वास्थ्य को बनाए रखने और संभावित समस्याओं को रोकने के लिए योनि स्राव को समझना महत्वपूर्ण है योनि स्राव के प्रकार

सामान्य और असामान्य स्राव महिला प्रजनन प्रणाली का हिस्सा हैं। योनि के स्वास्थ्य का सटीक आकलन करने के लिए रंग, गंध और बनावट के आधार पर उनके बीच अंतर करना आवश्यक है।

योनि स्राव के कारण

योनि स्राव में भिन्नता के लिए कई कारक योगदान करते हैं। हार्मोनल परिवर्तन, संक्रमण और यौन संचारित रोग आम अपराधी हैं जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

लक्षण एवं संकेत

असामान्य स्राव से सामान्य की पहचान करना महत्वपूर्ण है। किसी भी असामान्य परिवर्तन के लिए गहन जांच के लिए किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर के पास जाना चाहिए।

योनि स्वास्थ्य को बनाए रखना

उचित स्वच्छता और स्वस्थ जीवन शैली विकल्प चुनने जैसी प्रथाएं योनि स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालती हैं। जागरूकता और सक्रिय उपाय मुद्दों को रोकने में काफी मदद कर सकते हैं।

घरेलू उपचार

प्राकृतिक उपचार और आहार समायोजन स्वस्थ वातावरण को बढ़ावा देकर योनि पीएच को संतुलित करने में मदद कर सकते हैं।

डॉक्टर से कब परामर्श लें

अन्य लक्षणों के साथ-साथ लगातार या गंभीर डिस्चार्ज को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। उचित निदान और उपचार के लिए समय पर चिकित्सा हस्तक्षेप महत्वपूर्ण है।

चिकित्सा निदान और उपचार

स्त्री रोग संबंधी जांच और निर्धारित दवाएं योनि स्वास्थ्य समस्याओं को प्रभावी ढंग से संबोधित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

रोकथाम युक्तियाँ

नियमित जांच और सुरक्षित यौन व्यवहार संभावित समस्याओं को रोकने में योगदान करते हैं। प्रजनन स्वास्थ्य को प्राथमिकता देना समग्र कल्याण का एक प्रमुख पहलू है।

योनि स्राव और गर्भावस्था

गर्भावस्था के दौरान सामान्य परिवर्तनों को समझना और यह जानना कि स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से कब परामर्श लेना है, एक सुचारू प्रजनन यात्रा सुनिश्चित करता है।

महिला स्वास्थ्य पर सांस्कृतिक परिप्रेक्ष्य

खुली बातचीत को बढ़ावा देने और एक स्वस्थ समाज को बढ़ावा देने के लिए महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी वर्जनाओं को तोड़ना और मिथकों को दूर करना आवश्यक है।

  FAQ:- पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न: सामान्य योनि स्राव को क्या माना जाता है?

उत्तर: सामान्य योनि स्राव आमतौर पर स्पष्ट या दूधिया होता है और पूरे मासिक धर्म चक्र में स्थिरता में भिन्न होता है।

 

प्रश्न: क्या तनाव योनि स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है?

उत्तर: हां, तनाव हार्मोनल संतुलन को बाधित कर सकता है, जिससे योनि के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है। समग्र कल्याण के लिए तनाव प्रबंधन महत्वपूर्ण है।

प्रश्न: क्या ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो योनि स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं?

उत्तर: प्रोबायोटिक्स से भरपूर कुछ खाद्य पदार्थ, जैसे दही, स्वस्थ योनि वनस्पति में योगदान कर सकते हैं।

प्रश्न: किसी को कितनी बार स्त्री रोग संबंधी जांच करानी चाहिए

?उत्तर: नियमित वार्षिक स्त्री रोग संबंधी जांच की सिफारिश की जाती है, लेकिन व्यक्तिगत स्वास्थ्य आवश्यकताओं के आधार पर आवृत्ति भिन्न हो सकती है।

प्रश्न: योनि स्राव के बारे में आम गलतफहमियाँ क्या हैं?

उत्तर: गलत धारणाओं में सभी स्रावों को संक्रमण से जोड़ना और योनि द्रव में सामान्य बदलावों को नजरअंदाज करना शामिल है।

Corona Sub Variant JN.1: कोरोना के नए वेरिएंट JN1 का खौफ, चंडीगढ़ में मास्क जरूरी, किस राज्य में कितने सख्त हैं नियम, जानें पूरी गाइडलाइंस

Corona Sub Variant JN.1

Corona Sub Variant JN.1:  का खौफ, चंडीगढ़ में मास्क जरूरी, किस राज्य में कितने सख्त हैं नियम, जानें पूरी गाइडलाइंस   Read moreIPL 2024 नीलामी: खिलाड़ियों पर रहेगी नजरCorona Sub Variant JN.1: कोरोना के नए वेरियंट जेएन.1 के देश में दस्तक देने के बाद राज्यों ने नियमों में बदलाव किया है तो केंद्र ने भी … Read more

2024 में ये Auto Stocks कमाएंगे जबरदस्त मुनाफा! अपना पोर्टफोलियो तैयार करें; जानिए  खरीदें, बेचें, होल्ड करने के लक्ष्य

2024 में ये Auto Stocks कमाएंगे जबरदस्त मुनाफा! अपना पोर्टफोलियो तैयार करें; जानिए  खरीदें, बेचें, होल्ड करने के लक्ष्य

आउटलुक: ब्रोकरेज हाउस एचएसबीसी ने 2024 में Auto Stocks पर अपना आउटलुक जारी किया है। ब्रोकरेज ने ज्यादातर शेयरों को अपने पास रखने या नई खरीदारी करने की भी सलाह दी है। अगर आप नए साल के लिए पोर्टफोलियो बनाना चाहते हैं तो चुनिंदा ऑटो स्टॉक बेहतर रिटर्न दे सकते हैं। 2024 Auto Stocks आउटलुक: साल 2023 ऑटोमोबाइल कंपनियों के लिए अच्छा रहा। बढ़ती मांग और नई लॉन्चिंग से कंपनियों को मजबूत सपोर्ट मिला। इससे ऑटोमोबाइल कंपनियों के शेयरों में जोरदार तेजी देखने को मिली. पिछले साल ज्यादातर निवेशकों ने ऑटो शेयरों में अच्छा रिटर्न कमाया है। ब्रोकरेज हाउस एचएसबीसी ने 2024 में ऑटो शेयरों पर अपना आउटलुक जारी किया है। ब्रोकरेज ने ज्यादातर शेयरों को अपने पास रखने या नई खरीदारी करने की भी सलाह दी है। अगर आप नए साल के लिए पोर्टफोलियो बनाना चाहते हैं तो चुनिंदा Auto Stocks बेहतर रिटर्न दे सकते हैं।

2023 में आपको कहां से समर्थन मिला?

HSBC का कहना है कि 2023 में 4 बड़े कारण रहे जिनकी वजह से Auto Stocks में जोरदार तेजी आई और निवेशकों ने जमकर पैसा कमाया। इस साल ऑटो कंपनियों की ओर से मांग में बढ़ोतरी हुई है। कंपनियां नए लॉन्च से डरी हुई थीं. कमोडिटी की कीमतों में नरमी का ऑटो कंपनियों के मार्जिन पर सकारात्मक असर पड़ा। इसके साथ ही वैल्यूएशन की दोबारा रेटिंग हुई. इस तरह इन 4 फैक्टर्स से ऑटो इंडस्ट्री को बूस्ट मिला.

2024 का क्‍या है आउटलुक

HSBC का कहना है कि मांग, कमोडिटी कीमतों में नरमी, नए लॉन्च, वैल्यू री-रेटिंग के कारण 2024 में उसे ज्यादा फायदा मिलने की उम्मीद नहीं है। इसलिए ऑटो शेयरों में अपेक्षित रिटर्न मध्यम रह सकता है। ब्रोकरेज फर्म का कहना है कि 2024 में कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी और मांग में गिरावट ऑटो कंपनियों और ऑटो शेयरों की कमाई के लिए बड़ा जोखिम है.

HSBC: ऑटो शेयरों में क्‍या करें

HSBC: ऑटो शेयरों में क्या करें?
बजाज ऑटो

रेटिंग: रुको
₹5400 से ₹6900
सीएमपी: ₹6275

आयशर मोटर्स

रेटिंग: रुको
₹3300 से ₹4500
सीएमपी: ₹4060

हीरो मोटोकॉर्प

रेटिंग: खरीदें
₹3700 से ₹4300
सीएमपी: ₹3897

टीवीएस मोटर कंपनी

रेटिंग: खरीदें
₹1800 से ₹2300
सीएमपी: ₹2019

मारुति

रेटिंग: खरीदें
₹12500
सीएमपी: ₹10286

महिंद्रा एंड महिंद्रा

रेटिंग: खरीदें
₹1800 से ₹1900
सीएमपी: ₹1725

टाटा मोटर्स

रेटिंग: रुको
₹700 से ₹730
सीएमपी: ₹732

एस्कॉर्ट्स कुबोटा

रेटिंग: कम करें
₹2500
सीएमपी: ₹3130

 

(डिसलेटलेमर: यहां शेयर में निवेश एसोसिएटेड सलाह ब्रोकरेज फर्म ने दी है। ये जी बिजनेस के विचार नहीं हैं। निवेश से पहले अपने एड निवेशकों से परामर्श कर लें।)