/ नीट पेपर लीक मामले में हुई थी गड़बड़ी, कोटा से लौटे हैं..' बिहार में गिरफ्तार अभ्यर्थियों और सेटर्स के कबूलनामे पर गौर करें..

नीट पेपर लीक मामले में हुई थी गड़बड़ी, कोटा से लौटे हैं..’ बिहार में गिरफ्तार अभ्यर्थियों और सेटर्स के कबूलनामे पर गौर करें..

नीट पेपर लीक मामले में हुई थी गड़बड़ी, कोटा से लौटे हैं..’ बिहार में गिरफ्तार अभ्यर्थियों और सेटर्स के कबूलनामे पर गौर करें..

 

'नीट पेपर लीक मामले में

नीट पेपर लीक मामले में बिहार में गिरफ्तार अभ्यर्थियों ने पुलिस के सामने कबूल किया है कि उन्हें उत्तर याद कराए गए थे.

पटना. नीट (यूजी) परीक्षा घोटाला मामले में गिरफ्तार अभ्यर्थी अनुराग यादव ने पुलिस के समक्ष दिए अपने बयान में नीट परीक्षा में पेपर लीक होने की बात कबूल की है. पटना के शास्त्रीनगर थाने में दर्ज एफआईआर में उसने लिखित बयान देकर कबूल किया है कि परीक्षा से एक दिन पहले जो प्रश्न और हल रटाए गए थे, वही प्रश्न परीक्षा में सही-सही हल किए गए थे. अनुराग यादव इस मामले में गिरफ्तार दानापुर नगर परिषद के जूनियर इंजीनियर सिकंदर प्रसाद यादवेंदु के साले का बेटा है.

परीक्षा में प्लेसमेंट हो चुका है, कोटा से लौटा है…

समस्तीपुर के हसनपुर परिदा गांव निवासी 22 वर्षीय अनुराग यादव ने अपने लिखित बयान में कहा है कि वह कोटा के एक प्रसिद्ध शिक्षा केंद्र में नीट परीक्षा की तैयारी कर रहा था। मेरे चाचा (सिकंदर प्रसाद यादवेंदु) ने मुझे बताया कि 5 मई 2024 को नीट परीक्षा है। कोटा से वापस आ जाओ। परीक्षा सेट हो चुकी है। इसके बाद अनुराग कोटा से वापस आ गया।

यह भी पढ़ें: नीट विवाद: पटना में सॉल्वर गैंग द्वारा जिन विषयों के उत्तर याद कराए गए, उनमें मिले अंक अचानक हैं परीक्षा से एक दिन पहले क्या हुआ था…

परीक्षा से एक दिन पहले चाचा यादवेंदु ने अनुराग को अमित आनंद और नीतीश कुमार के पास छोड़ा था, जहां उसे नीट परीक्षा का प्रश्नपत्र और सॉल्यूशन शीट दी गई थी। उसे रात में देखने और याद कराने के लिए कहा गया था। परसों जब वह डीवाई पाटिल स्कूल परीक्षा केंद्र में नीट की परीक्षा दे रहा था, तो उसे वे सभी प्रश्न दिए गए, जो उसने परीक्षा में अच्छे से याद किए थे।

सिकंदर ने कहा था- 40 लाख लगेंगे, सब तैयार है…

आयुष के पिता अखिलेश कुमार ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि सिकंदर ने उसे बताया था कि सब कुछ तय है। इसमें 40 लाख रुपए लगेंगे। मेरा बेटा परीक्षा छोड़ देगा। मैंने लालच में आकर ऐसा किया। मैंने अपने बच्चे का सारा दस्तावेज सिकंदर को सौंप दिया। सिकंदर 4 मई की रात बच्चे को प्रश्नपत्र याद कराने के लिए ले गया। उसने कहा कि जब तुम्हारा बच्चा आयुष पास हो जाएगा, तब पैसे दे देना।

आयुष ने कहा, पिता ने मुझे कोटा से पटना बुलाया था

पटना के राजवंशीनगर स्थित डीएवी कॉलेज में नीट की परीक्षा देने वाले गिरफ्तार अभ्यर्थी आयुष ने भी पुलिस को दिए बयान में अपना जुर्म कबूल किया है। उसने कहा, मैं नीट की तैयारी करने कोटा गया था। इसी सिलसिले में पिता ने मुझे फोन पर बताया कि तुम पटना आ जाओ। यहां नीट परीक्षा पास कराने के लिए व्यवस्था की गई है। चार और पांच मई को मैं पिता के साथ सिकंदर अंकल के पास गया था, जहां नीट के प्रश्न और उत्तर याद कराए जा रहे थे। मुझे इस बारे में पहले से कोई जानकारी नहीं थी। परीक्षा देने के बाद पुलिस ने मुझे गिरफ्तार कर लिया।

सेटर अमित, नीतीश और यादवेंदु ने भी कबूला अपना जुर्म

सॉल्वर गैंग के सदस्य अमित आनंद, नीतीश और सिकंदर यादवेंदु ने भी पुलिस के सामने अपना जुर्म कबूला और माना कि नीट परीक्षार्थियों को 32 से 40 लाख रुपये में परीक्षा से पहले प्रश्नपत्र और हल याद कराए जाते थे। सिकंदर ने बताया है कि दानापुर नगर परिषद के कार्यालय में अमित आनंद और नीतीश कुमार से मेरी मुलाकात हुई थी। दोनों ने प्रश्नपत्र लीक कर किसी भी परीक्षा में पास कराने का दावा किया था। छात्र के मुताबिक इसके लिए 32 लाख रुपये में डील हुई थी। मैंने आयुष, अनुराग यादव, अभिषेक कुमार और शिवनंदन कुमार को 4 और 5 मई की रात को रामकृष्ण नगर में अमित आनंद और नीतीश कुमार के पास भेजा। दोनों ने प्रश्न पत्र दिया और सभी को उत्तर के साथ-साथ उसे याद भी कराया।

एनएचएआई गेस्ट हाउस में रहने का आरोप

पुलिस सूत्रों के अनुसार सिकंदर प्रसाद यादवेंदु के निर्देश पर अनुराग यादव को एनएचएआई गेस्ट हाउस में ठहराया गया था। गेस्ट हाउस में कमरा बुक कराने के लिए बड़े पैमाने पर पैरवी की गई थी।

Leave a Comment